moon girl

स्याह रात का चाँद

  आती वह हर रात मुझसे मिलने ले जाती मेरी नींद, मेरे सपने बदले में रात का वेश बदल, स्याह चादर में लिपटी आती वो,  रंग जाती मैं भी उसके ही रंग में | रात ही तो थी, काली, विस्मयकारी, मेरे हर प्रयास के बाद भी मुझपर भारी | मुझसे ही...Read More