moon girl

स्याह रात का चाँद

  आती वह हर रात मुझसे मिलने ले जाती मेरी नींद, मेरे सपने बदले में रात का वेश बदल, स्याह चादर में लिपटी आती वो,  रंग जाती मैं भी उसके ही रंग में | रात ही तो थी, काली, विस्मयकारी, मेरे हर प्रयास के बाद भी मुझपर भारी | मुझसे ही...Read More
The Style Symphony

वो बात अब भी बाक़ी है : Ghazal

[caption id="attachment_5613" align="aligncenter" width="333"] PC: Pinterest[/caption] मेरे लफ़्ज़ों में अब भी वो ख़लिश बाक़ी है, कि उफ़ भी करूँ तो पिघलता है फ़लक.   डूबती शाम का अब भी वो पहर बाक़ी है, कि गर्द-ए-रहगुज़र घबराकर जाती है ठिठक.   उम्र-ए-दरिया में अब भी वो लहर बाक़ी है, वक़्त की...Read More
deceit

Deceit: छल

Deceit, deception, fraud, falsehood — there are numerous synonyms of that bad, we hate a lot. But sometimes, even the most virtuous person has to play deceptive when life turns out to be a mayhem. In the battle of Mahabharata, Lord Krishna played deceptive tricks several times to safeguard the...Read More
catharsis

Catharsis: A Haiku Poem

Catharsis, as explained by the eminent literati and authors, is the release of emotions through witnessing art. Shakespeare made people cathartic through his plays by showing the fall or end of his mighty heroes. His protagonist (especially in his tragedies like Macbeth, Othello, Hamlet and King Lear) possesses great qualities...Read More
tss hindi poetry

रात की स्याही

बोझिल शामें, ऊंघती रातें................, आहत आँखों की साज़िश से हर साँस बिखरती है, कतरा-कतरा होकर मेरी आवाज़ बहकती है, रात मुझसे ही होकर हर रात गुज़रती है,   फ़िर भी मेरी आँखों में नहीं नींद बसती है |    कानों को बींधता है जब सन्नाटे का शोर, जिस ओर मुझे बुलाता,...Read More