स्याह रात का चाँद

moon girl


Indian Bloggers

 

आती वह हर रात मुझसे मिलने

ले जाती मेरी नींद, मेरे सपने बदले में

रात का वेश बदल,

स्याह चादर में लिपटी आती वो,

 रंग जाती मैं भी उसके ही रंग में |

रात ही तो थी, काली, विस्मयकारी,

मेरे हर प्रयास के बाद भी मुझपर भारी |

मुझसे ही होकर जाती हर बार,

घायल करने को मुझको,

करती वह असंख्य वार |

मेरी पलकें नम, स्वप्नविहीन,

पर, मैं तो थी उसमे ही तल्लीन |

उसके रंग में रंगती मेरी काया

हुई श्वेताभ से नीलाभ,

ऐसी थी उस रात की माया |

आत्मा पर पड़े नील दंश,

क्या बस मेरी मनोव्यथा ही थे ?

या फिर थे आत्मग्लानि के निशान?

जो रात की स्याही में घुलकर

पन्नों पर निखरने को होते आतुर,

और नींद की आस रह जाती क्षीण-क्षणभंगुर |

पर, स्याह किरणों से कैसे लिखूं सुनहरे छंद ?

आक्रामक शब्दवार से स्तब्ध मन

था मेरी रात्रि-रंजित काली काया में बंद |

मैं … अभेद्य….. …

चांदनी भी पहुंच न सकी मेरे मर्म तक,

और स्याह चादर में लिपटी गहन रात

मुझसे ही होकर जाती अपने गंतव्य तक |

कई बार कहा उससे —

“मेरे हिस्से की चांदनी तो छोड़ जाओ!”

मुस्काई वो उस रात, कहा —

“सुबह होने को है, देखो तो,

चिड़ियों के कलरव में कहीं चाँद छुपा हो!” 

कर न सकी वो और स्याह मेरी रातें,

क्योंकि करने लगी अब मैं हर रात

उस धवल चाँद से बातें |

GLOSSARY —

*विस्मयकारी: Mysterious,                          *तल्लीन: Engrossed,                              *श्वेताभ: Fair complexioned,

*नीलाभ: Burnt, bluish complexion,       *मनोव्यथा: Mental agony ,                 *आत्मग्लानि: Guilt

*क्षीण: Feeble,                                                   *क्षणभंगुर: Transient,                            *छंद: Verse,

*आक्रामक: Violent                                      *अभेद्य: Impermeable,                          *मर्म: Quintessence,

*गंतव्य: Destination,                                   *चिड़ियों का कलरव: Birds’ chirping, twitter,

*धवल चाँद: Bright Opal Moon.

 

A dreamer, an insomniac, she dedicates her words to her only friend and confidante, MOON who witnesses her melancholy and bestows his glory on her dark world. A Hindi poem which describes a night rambler agonized by the gloomy nights and bewildered by the bright opal moon!

 

  • sunder rachna

  • upasna sethi

    Its so mysterious yet scintillating. Thanks for the meanings at the end.

    • Thank you so much Upasna! Glad that you liked the poem! Means a lot!

  • Wonderful choice of words,Ma’am. I liked the subtle positivity in the end…

  • Bushra Muzaffar

    Beautifully crafted…so many elements woven so beautifully..!!

  • Rakesh Pandey

    This poem sounds so deep and mystique, like that dark night, which conjures up various effects on our fragile psyche! Romance, fear, terror, lust, tranquility…!

    Loved the victory of will over the helplessness in the end. This poem sounds very mysterious… like that dark and beautiful night!

    You have a way with words! 👌

    • It’s always overwhelming reading your comments Rakeshji! Being read by a wizard of words is itself the biggest achievement for me and appreciations are indeed those addons more than precious!
      Thank you so much for dropping by. Means a lot! 🙂

  • anamika ghatak

    bahut hi badhiya …shabdon ka chayan

    • Thank you so much! Glad that you liked this poem Anamika ! Welcome to TSS. 🙂

    • Thank you so much Anamika! Apko acchi lagi, anek aabhar!

  • Durga Prasad Dash

    Bahut khub

  • Jayanthi Parthasarathy

    “Subah hone ko hai, dekho to chidiya ke kalrav mein kahin chaand chupa ho….” amazing <3

  • MS Mahwar

    Beautiful!

  • Beautiful!