Wednesday , 29 March 2017
Fashion Updates
Home / Tag Archives: feelings and expressions

Tag Archives: feelings and expressions

तमाम रात : Ghazal

तमाम रात

It’s bliss for an insomniac like me, to experience the dawn first, before the whole world does. But as all good things come with a price, I pay it with those sleepless nights draped with melancholy; yet the opportunist me craves fame out of that. Here, the bewildered insomniac expresses her gloom through this Ghazal. ~ Ghazal ~                                             ... Read More »

शब्द (Words)

shabd words शब्द

Please… Sorry… Thank You…   the sweetest man-made gestures ever found in the world of words! And reciprocation of these beautiful words build strong relations. Words are the most powerful medium of communication in this era of social media as well as socialization in our own surroundings. Because, words can break the barriers of place, distance and time and could make powerful emotional connect. But, when words get weird, they not only break hearts but also relations. The poem portrays ... Read More »

Melancholia

melancholy

End is always saddening but it always leaves behind an enriching experience and hope for a new beginning. The year has come to an end but I am not left empty handed, I’m not sad as loads of wisdom is what I have obtained. Some questions are tough to be asked than answered Some dreams are meant to be shattered Some prayers are offered, listened But remain unanswered. Clouds— deadly and dark, do suffocate sometimes, But it never rains, The ... Read More »

अमूल्य

अमूल्य

Sometimes she’s being called a deity or sometimes being compared to priceless substances. But, a woman is always considered as an ‘object of desire’ and is expected to sacrifice for the sake of her family and society. She has to pay the price to be called ‘priceless’. This poem portrays the complexities and paradoxes of a woman’s life. आँखों की चकाचौंध, वैभव का प्रतीक, स्वर्ण | शायद अलग-अलग परिस्थितियों में अलग-अलग नियति झेलने को विवश | एक दक्ष जौहरी के ... Read More »

द्वय (Dualism)

क्यों

Bible says, this mankind is the result of the mistakes made by Eve in the Garden of Eden. When Eve tasted the forbidden fruit, she got tempted and provoked Adam to commit sin, resulting in her punishment of suffering from labour pain. Bible specifies carnal relationships as prohibited sins and states them the weakness of humans. Even in Hindu mythology Lord Shiva is portrayed as Ardhanarishwar (half man and half woman), the most powerful deity of this universe. This poem is ... Read More »

अनुभूति और अभिव्यक्ति

tss hindi poetry

कल्पनाओं के पाँखी उड़ गए, संभावनाओं के पंख पसार| बंजर मन की परती में, अंकुरने से, भावनाओं ने किया इन्कार| यथार्थ की दुपहरी, बिखेर गयी, धूप, कर्कश जेठ सी| वर्जनाओं में जकड़ी मैं, बह न सकी, मुठ्ठी में बंद रेत सी| अनुभूति, कोई नागफनी का पौधा नहीं और कांटे हैं नहीं अभिव्यक्तियाँ| अब कहो तुम ही की मेरी कल्पना, कैसे हो साकार ? — संगीता मिश्रा Read More »

तुम और मैं

तुम और मैं

I don’t worship and I’m being called an atheist, but I share a special bond with God which makes me see Him through the eyes of a friend than those of a follower. My special connection with the Almighty gets stronger despite all criticism of not being a believer. This poem portrays my special connect with Him. तुम ! निखिल विश्व, प्रकृति विस्तार अनादि, अनंत, सच्चिदानंद ! मैं? तुम्हारी तुलना में मेरा अस्तित्व ही क्या? तुम तो हो ज्ञान के ... Read More »

धुरी और परिपथ

धुरी और परिपथ

पृथ्वी का घूमना अपनी धुरी पर या फिर एक निश्चित परिपथ में परिक्रमा सूर्य की, — विज्ञान के इस सत्य को जीने की नियति है मेरी भी निरंतर…. अपनी अस्मिता की तलाश में आत्मकेन्द्रित होकर स्वयं की धुरी पर घूमना और कर्तव्यों की आकाशगंगा में नियति द्वारा तय एक अज्ञात, अबूझ परिपथ पर एक नियोजित सूर्य की यंत्रवत परिक्रमा सूर्य के प्रचंड और उद्विग्न ताप में झुलसने की विवशता तथा धुरी और परिपथ की दोहरी दौड़ में अपने आंसुओं तक ... Read More »

Sands of Time

sands of time

This poem is my first ever English poem as an amateur poet, written about 30 years back when I was a teen and studying in class 12th. Time leaves all behind, Joy and sorrow of yesterday Are the things to be forgotten And never to mind! Friends meet and separate, If you don’t care you’ll be late. Things are made to be destroyed So, this life is to be enjoyed. Yet this enjoyment should be restrained Or else by time, ... Read More »

अक्स और आँखें

अक्स

When she was born,everyone said that she didn’t look like me! But I made her my replica with time. 🙂 This poem is dedicated to my daughter Maitreni. जब तुम आई, कहा सबने मेरा अक्स नहीं दिखता तुममें | मुस्कान तुम्हारी मुझ सी नहीं और आँखों में थे भाव नए, मैंने ओढ़ ली वो नन्ही सी किरण और दिल के सारे घाव भरे | आँसू ये तुम्हारे हिस्से के अब मेरी आँखों से बहते तुम बोलो और मै निःशब्द मेरे ... Read More »

Between the lines…

  I am the unreadable between the lines, The brew to turn you into the finest wines The strength to push you towards whites The restraint to stop you step into black with my advice   As I stand the grey between the shades, To protect you from falling grades To segregate and drink the venom of water To inhale the poison that lies in the air or wherever.   To absorb the radiation of the space, Would readily get ... Read More »

रात की स्याही

tss hindi poetry

बोझिल शामें, ऊंघती रातें……………., आहत आँखों की साज़िश से हर साँस बिखरती है, कतरा-कतरा होकर मेरी आवाज़ बहकती है, रात मुझसे ही होकर हर रात गुज़रती है, फ़िर भी मेरी आँखों में नहीं नींद बसती है |  कानों को बींधता है जब सन्नाटे का शोर, जिस ओर मुझे बुलाता, मैं चल देती उस ओर, सूरज जब अंगड़ाइयाँ लेकर उठता हर अगली भोर, तब जाकर कहीं मेरी आँखों में एक रात पसरती है, फ़िर भी मेरी आँखों में नहीं नींद बसती है ... Read More »

मेरे हिस्से का दर्द

tss hindi poetry

  पीड़ा झेलती मेरी अनुभूतियाँ और झेलते हैं दर्द मेरे शब्द भी, तब जाकर कहीं रचित होती है मेरी व्यथा की कविता | घुमड़ते मेघों – आषाढ़ बनकर ही रहो सावन बनकर मत बरसो इन आँखों से, रुपहले तारों से कह दो मत झाकेँ असमय इन श्याम सुनहरी अलकों से | क्यों शोषण करती हैं पंच-इन्द्रियाँ सारी ऊर्जा रहने दो बस एक स्पंदन मात्र मेरे मन के लिए भी | मेरे अंतर्मन पर पड़े निशान, इतना मत टीसो की सारे आँसु ... Read More »

सृजन का सच

tss hindi poetry

हर सुबह जब झरता है पत्तों से अँधेरा हवा चुनती है बूँदें ओस की और, गूंजता है हवाओं में राग भैरव धूप की पहली, कुंवारी किरण भेदना चाहती है वातावरण में फैली वासना की गहरी धुंध; चाहती  हूँ मैं भी, बिखेर दूँ हर ओर ताज़ी सुगंध | पर, स्याह किरणों से कैसे लिखूँ सुनहरे छंद, कैसे कहूँ, किससे कहूँ, कि कविता हरी कोंपलों से फूटती है सड़े पत्तों के ढेर से नहीं, मंन जो बंधा है कोमल सुरों से “रॉक-रैप” ... Read More »

फ़ना के बाद: Ghazal

tss hindi poetry

अश्के-सागर में डूबने से ज़रा शोर तो होगा, मेरी इस ख़ुदकुशी पे रोया कोई और तो होगा | रास्ते सुनसान हैं, मेरी मंज़िल भी दूर है, सांस लेने को बियाबां में कहीं ठौर तो होगा | दुश्मनी ही सही, कोई तो रिश्ता हो कम से कम, दुश्मन हुआ तो क्या, किया गौर तो होगा | मेरा हर एक आंसू है मेरी ख़ामोशी की जुबां, लफ़्ज़ों नहीं पर अश्कों में वो ज़ोर तो होगा | एक ख्वाहिश थी लिख सकूँ, अपनी ख्वाहिशों ... Read More »