Sunday , 25 June 2017
Fashion Updates
Home / Tag Archives: Urdu poetry

Tag Archives: Urdu poetry

वो बात अब भी बाक़ी है : Ghazal

The Style Symphony

मेरे लफ़्ज़ों में अब भी वो ख़लिश बाक़ी है, कि उफ़ भी करूँ तो पिघलता है फ़लक. डूबती शाम का अब भी वो पहर बाक़ी है, कि गर्द-ए-रहगुज़र घबराकर जाती है ठिठक. उम्र-ए-दरिया में अब भी वो लहर बाक़ी है, वक़्त की रेत पे छोड़े जो निशां दूर तलक. उनकी बेरुख़ी की अब भी वो सज़ा बाक़ी है, काश वो रोये ज़ार-ज़ार, लिए दिल में कसक. बात-ही-बात में निकले, अब भी वो बात बाक़ी है, अनकही बेतुकी बातों में है जीने का ... Read More »

फ़ना के बाद: Ghazal

tss hindi poetry

अश्के-सागर में डूबने से ज़रा शोर तो होगा, मेरी इस ख़ुदकुशी पे रोया कोई और तो होगा | रास्ते सुनसान हैं, मेरी मंज़िल भी दूर है, सांस लेने को बियाबां में कहीं ठौर तो होगा | दुश्मनी ही सही, कोई तो रिश्ता हो कम से कम, दुश्मन हुआ तो क्या, किया गौर तो होगा | मेरा हर एक आंसू है मेरी ख़ामोशी की जुबां, लफ़्ज़ों नहीं पर अश्कों में वो ज़ोर तो होगा | एक ख्वाहिश थी लिख सकूँ, अपनी ख्वाहिशों ... Read More »

हसरतें: Ghazal

tss hindi poetry

कम से कम हमसे किसी को कुछ गिला तो है, शुक्र है कि आज कोई ग़ुल खिला तो है | माना कि इस तरफ नहीं था रुख़ हवाओं का, एक ही सही, कोई पत्ता हिला तो है | हमसफ़र नहीं तो क्या, तकदीर है मेरी, बेवफ़ा भी संग, दो कदम चला तो है | लाख खुद सितम किया, पर आपका ये दिल दूसरे सितमगरों से कुछ जला तो है | क्या पता था, आपकी चाहत है बेबसी, ये नया राज़ आज ... Read More »

मंज़िलें: Ghazal

tss hindi poetry

वक़्त ने करवट बदली और आईने बदल गए, चेहरे के शिकन बदले, ज़िन्दगी के पैमाने बदल गए | कुछ इस तरह से हम लिखते रहे रात भर की सुबह हुई और लफ़्ज़ों के मायने बदल गए | मीलों चले हम अपनी हसरतों के संग-संग, हम देखते ही रह गए और वो सामने बदल गए | स्याही से लिखे हर्फ़, ज़िन्दगी के गीत थे, सुर भी सजे थे, फिर भी  अफ़साने  बदल गए | बेघर हमे किया और हुए वो बेखबर, ... Read More »

ख़्वाहिशें: Ghazal

tss hindi poetry

कहने को बहुत कुछ है, पर आग़ाज़ ना मिला पंख हैं अब भी मगर, परवाज़ ना मिला | बिखरे हुए सरगम मैं सजाती रही उम्र भर सुर तो हैं सजे हुए, पर साज़ ना मिला | हज़ार ख़्वाहिशें सिरहाने रख, सोयी थी कल रात, बस ज़माने को दिखाने का अंदाज़ ना मिला | बेतरतीब सुर सजा लिए मैंने करीने से पर आवाज़ से जो मिला दे आवाज़, ना मिला | शुक्रिया किया तेरा ऐ देने वाले ख़ुदा आँखों से ही ... Read More »

Blogmint Score

The Style Symphony Blogmint Score