tss hindi poetry चेहरा

चेहरा: Ghazal

    मेरे ख्यालों का सागर अगर गहरा होता, लहरों तले तूफ़ां सा एक ठहरा होता ! चिराग यादों के मैंने जो जलाये होते, स्याह रातों का रंग कुछ तो सुनहरा होता ! जो चाँद आसमान में न ऐसे इठलाता, चकोर का पुराना ज़ख्म ना हरा होता ! एक परवाज़...Read More