हौसलों की हार…

tss hindi poetry
Please like & share us:
50k


Indian Bloggers

The Style Symphony

हौसलों के पंख लगाकर उड़ने की बातें
करते थे हम कल तक,
आतंक के अट्टहास तले,
रेंगते, सरकते
उन्ही हौसलों को देखा है अभी|

रक्तरंजित सड़कों के बीच
जीने की जद्दोज़हद में
खिसकते, घिसटते
उन्ही हौसलों को देखा है अभी|

शवों के ढेर
जिनपर होती नित नई राजनीति
चिताओं पर सिंकती राजनीतिज्ञों की रोटी
शहीदों की चिताओं तले
सिसकते, सुबकते
उन्ही हौसलों को देखा है अभी|

थर्राते हाथों से शवों के ढेर में
ढूंढते अपने अपनों को
भयाक्रांत चेहरों की अभिशप्त आँखों में
टूटते, मिटते
उन्ही हौसलों को देखा है अभी|

बच्चों को स्कूल भेजती माँ ने
जब कांपते हाथों से उन्हें अलविदा कहा
थरथराते, कंपकपाते
उन्ही हौसलों को देखा है अभी|

गुमनामी की सौ पर्तों में जी रही थी
गर्त ही सही, पर ज़िन्दगी थी
मौत से मशहूर हो गई
कुछ ज़ख्म हैं चुप, कुछ बोल पड़े
मासूमों के मुखर ज़ख्मों में
तड़पते, दम तोड़ते
उन्ही हौसलों को देखा है अभी|

घायल, स्याह रात को सिरहाने
रखकर सोई थी कल,
रात अंधी हो गई आँखों में आते-आते
शोर पटाखों का शायद… पड़ोस से आया
पर काँप उठी आत्मा मानो
आतंक ने आकर दस्तक दी हो दरवाज़े पर
दहलते, दंश भरे
उन्ही हौसलों को देखा है अभी|

मिटटी का गौरव ध्वस्त हुआ,
संगीन तले, आतंक तले है नतमस्तक
राख रक्त से रंगा पड़ा है
मानवता का मुख मलिन हुआ है
अपभ्रंश हुए, अभिशप्त हुए
उन्ही हौसलों को देखा है अभी|

कल वो थे, कल हम होंगे
वो जी न सके, हम जी लेंगे?
वो हार गए, हम जीतेंगे?
हौसलों के पंख लगाकर उड़ने की बातें
करते थे हम कल तक,
मुँह मोड़ते, हार मानते
उन्ही हौसलों को देखा है अभी||

— संगीता

हौसलों
Published in Hindustan (Hindi)

My eyes get wet when I see the blood-shed terrorism and the violence around. Wish we could get that society “where the mind is without fear”. Amen!

Please like & share us:
50k
  • Thank you so much. 🙂

  • Rakesh Pandey

    It’s simply awesome! It’s difficult to decide if your Hindi poetry is better or Japanese haiku! I believe, you have great imagination and are able to convey it in enchanting words!

    • Your comments always make me flattered Rakeshji. Being read by a person of great words is indeed an honor for me. Thank you so much. 🙂

  • Bohot khoobsurat rachna…it so well states the state of a country when it is in the wrong hands 🙁

    • Sangeeta Mishra

      Yes, you are right Shweta. We seriously need the change :(. Thanks for your appreciation.

  • I’m speechless by the stir created within.

    • Sangeeta Mishra

      Thank you so much Ravish 🙂

  • lovely one Sangeetaji 🙂

    • Sangeeta Mishra

      Thank you so much Archana 🙂

  • Purba Chakraborty

    Wow! I really don’t have the proper words to praise this incredible poem. It’s soul piercing! I think I had slight gooseflesh at the end of the poem.

    • Sangeeta Mishra

      Hey Purba,
      It’s really an overwhelming feeling reading your comments on TSS. Your appreciation means a lot as your words enthrall me. Thank you sooooooo much dear. Lots of love and Hugs 🙂 <3

  • Sangeeta Mishra

    Yes it’s indeed very painful but still prevalent. Thank you so much Deeshani 🙂

  • A poignant piece Sangeeta.

    • Sangeeta Mishra

      Yes Somali, it is. Thanks for stopping by.

  • great poem… an inspiring and thought provoking poem…

    • Sangeeta Mishra

      Thank you so much Ashish. Means a lot. 🙂

  • Indrani

    Great tribute! Good read.

    • Sangeeta Mishra

      Thank you so much Indrani. 🙂

  • Avinash Mishra

    MAA tujhe salam.. _/_

    This poem acts as the mirror that reflects plight of India. In such situations, great salute to India Army who sacrifice their life for our protection.

    Very nicely written. (Y)

    • Sangeeta Mishra

      Thank you so much Avinash. 🙂