जिजीविषा…

Safe from words: haiku poem


Top post on IndiBlogger, the biggest community of Indian Bloggers

क्या हुआ जो जिंदगी की शाम आनी है,
धुप्प अँधेरे से तो अपनी गहरी सानी है !

अभी तो स्वर में दर्द का संगीत बाकी है
मारवा के राग का एक गीत बाकी है!

तारसप्तक का अभी वो तान बाकी है
सुरों से अब भी मेरी पहचान बाकी है !

काँटों से चुन के तोडूं वो फूल बाकी है
दंश न दे चुभ के भी वो शूल बाकी है !

कागज़ों की कश्तियों की सैर बाकी है
नई डगर पे रखना बस पैर बाकी है !

सर उठा कर जीने की आस बाकी है
ठहरती साँसों में अब भी सांस बाकी है !

मौत की फिकर तो बस आनी जानी है,
ज़िन्दगी जीने की हमने अब जो ठानी है…!

Glossary: 

*जिजीविषा: Indomitable spirit, Nil desperandum,                *धुप्प अँधेरा: Acute darkness,

*सानी: parallel, friendship                                                              *मारवा राग: An evening raaga of Hindustani classical music 

*तारसप्तक: High octave                                                                  *दंश: Sting, prick

*कागज़ों की कश्तियों: Old memories, Self attainment, knowledge

 

Ink Art : Vineeta Mishra

 

 

  • Jayanthi Parthasarathy

    divine poetry <3

  • Purba Chakraborty

    Wow! This is beyond beautiful. Loved it. One of your best poems, Ma’am <3

  • bahut sundar rachna

  • Jyotirmoy Sarkar

    Beautiful words and thoughts…loved it a lot.
    Specially liked the 4th stanza.

  • Shivani Kunal Gupta

    Amazing wording… Loved it

  • Very beautifully written! Amazing!

  • Navdeep Inder Bamrah

    Wow beautiful poem

  • Jayanthi Parthasarathy

    dark , beautiful & magical lines <3

  • Rakesh Pandey

    Wow! One of your best!

  • Positive poem!
    Let’s hold on to the possibilities & opportunities presented by that which is left out.
    I love the song from the Bollywood movie-Barfii-
    Woh jo adhoori si baat baaki hai,
    Woh jo adhoori si yaad baaki hai…

  • बेहद खूबसूरत जीवंत शब्दों का बेहतरीन चित्रण उम्दा कविता

  • Nice poem. Always love the flow in your words.